Mon. Oct 26th, 2020
ankit scaled

वो एक शख्स काफ़िर क्यों है ?
मेरे बुरे वक्त में गैर-हाज़िर क्यों है?

Advertisement
Advertisement

जिसने ज़िदगी की राह पर चलना सिखाया,
वो खुद तन्हां रास्तों पर मुसाफ़िर क्यों है?

हर एक जख़्म को हरा कर देता है अपनी बातों से,
वो मेरी ज़िस्म-ओ-जां से वाकिफ़ क्यों है?

अगर आफ़ताब है भी तो वो फ़लक पर है ,
फिर ये मेरे सीने में आतिश क्यों है?

सिखा है फन उसने फ़रिश्तों के घर से ,
ना जाने वो मेरे जज़्बातों का कातिल क्यों है?

मेरे इल्ज़ाम और सज़ा दोनों खुद ही लिखता है ,
वो मेरे मुस्तकबिल का कातिब क्यों है?


Stark…

वो एक शख्स काफ़िर क्यों है||BY Stark Kaakraan

Leave a Reply

Live Updates COVID-19 CASES